Friday, May 23, 2014

मौसम बदल गया



झांका देखा खिड़की से तो
सब कुछ हसीन दिखता था
ताला लगाते बाहर आते
तब तक मौसम बदल गया

बैठता था वो बूढ़ा जो
प्याऊ के उस मुहाने पर
जब से पानी क़ैद हुआ
तब से जाने किधर गया

नहीं उगलती सोना चांदी
बेबसियां अब निगलती है
धीरे धीरे कसते कसते
फंदा आख़िर लटक गया

धूप ही है बस बची हुई
दे सकें जो कुछ विरासत में
पापी पेट हमारा ये
बाक़ी सब तो निगल गया

3 comments:

  1. नहीं उगलती सोना चांदी
    बेबसियां अब निगलती है
    धीरे धीरे कसते कसते
    फंदा आख़िर लटक गया

    क्या बात है. बहुत ही मार्मिक .

    ReplyDelete

  2. झांका देखा खिड़की से तो
    सब कुछ हसीन दिखता था
    ताला लगाते बाहर आते
    तब तक मौसम बदल गया

    bahut sundar bat kahi hai aapne abhishek ji

    ReplyDelete