Friday, January 11, 2019

जाम हो, शराब हो, पर ख़ुमारी न हो




जाम हो, शराब हो, पर ख़ुमारी न हो
ज़िक्र हो ज़ख़्मों का, तिरी शुमारी न हो

मिट्टी के भाव न बिके ज़िंदगी तिरा खज़ाना
अधूरी हसरतों का गर कारोबारी न हो

बड़ी मासूमियत से तिरे दर पे आए हैं हाकिम
अब ऐलान-ए-नाइंसाफी में इंतिज़ारी न हो

थक गई है अवाम भी वोटों की डुगडुगी से
 
ऐ ख़ुदा कभी तो तमाशे में मदारी न हो

वो कभी न बनाएंगे तुम्हें रहनुमा शहर का
जो मंदिर-मस्जिद करने की बीमारी न हो

7 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 11/01/2019 की बुलेटिन, " ५३ वर्षों बाद भी रहस्यों में घिरी लाल बहादुर शास्त्री जी की मृत्यु “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद शुक्रिया आपका 🙏

      Delete
  2. बहुत सुन्दर अभिषेक जी.
    तमाशे में मदारी नहीं होगा तो हम बंदरों को नचाएगा कौन? हम ही तो दर्शक हैं और हम ही तो तमाशा हैं.

    ReplyDelete
  3. Bahut Khoob Abhishek! Khastaur par akhiri ki do panktiyan...

    ReplyDelete
  4. उम्दा तमाशा और तमाशबीन।

    ReplyDelete